12th class physics chapter 14 objective questions in hindi | अर्धचालक

अर्धचालक 12th class physics chapter 14 objective questions and answers in हिंदी :-

  1. M कक्षा (कोश) में इलेक्ट्रॉनों की संख्या होती है –
    (a) 2
    (b) 8
    (c) 18 ✓
    (d) 32

हल- M कक्षा (कोश) के लिए उपकोशो की संख्या n = 3
भिन्न-भिन्न कक्षाओं में इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 2n2
तो M कक्षा में इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 2 × (3)2
इलेक्ट्रॉनों की संख्या = 2 × 9 = 18 Ans.
कुल इलेक्ट्रॉन = 18
उपकोशो की संख्या = 3
उपकोशो में इलेक्ट्रॉन का वितरण = 2, 6, 10

  1. निम्न में से कौन सा अर्धचालक का उदाहरण नहीं है –
    (a) कार्बन
    (b) लीथियम ✓
    (c) जर्मेनियम
    (d) सिलिकॉन

हल- वह पदार्थ जिनकी चालकता, चालको तथा अचालकों के बीच होती है। वह पदार्थ अर्धचालक कहलाते हैं। जैसे कार्बन, जर्मेनियम तथा सिलिकॉन आदि।

  1. शुद्ध जर्मेनियम को n-टाइप अर्धचालक बनाने के लिए उसमें मिश्रित किए जाने वाला अपद्रव्य है –
    (a) ऐण्टिमनी ✓
    (b) एल्युमिनियम
    (c) गैलियम
    (d) बोरान

हल- जब किसी शुद्ध अर्धचालक (जैसे जर्मेनियम) में पांच संयोजकता वाला अपद्रव्य (जैसे ऐण्टिमनी) मिला दिया जाता है। तो इस प्रकार के मिश्रित अर्धचालक को n-टाइप अर्धचालक कहते हैं।

  1. n-टाइप अर्धचालक में विद्युत चालन का कारण होता है
    (a) पोजिट्राॅन
    (b) कोटर
    (c) इलेक्ट्रॉन ✓
    (d) प्रोटोन

हल- n-टाइप अर्धचालक में आवेश वाहक मुक्त इलेक्ट्रॉन होते हैं। जबकि p-टाइप अर्धचालक में आवेश वाहक कोटर होते हैं।

पढ़ें… 12वीं भौतिकी नोट्स | class 12 physics notes in hindi pdf

  1. p-n संधि डायोड के अवक्षय क्षेत्र में आवेश वाहक होते हैं –
    (a) केवल इलेक्ट्रॉन
    (b) केवल कोटर
    (c) इलेक्ट्रॉन व कोटर दोनों
    (d) इलेक्ट्रॉन व कोटर दोनों ही नहीं ✓

हल- p-n संधि डायोड के दोनों ओर का वह क्षेत्र जिसमें आवेश वाहक नहीं रहते, अवक्षय क्षेत्र कहते हैं।
अवक्षय क्षेत्र में कोई आवेश वाहक नहीं होते हैं।

इसे भी पढ़े. 12th physics chapter 15 objective questions in hindi संचार व्यवस्था

  1. अर्धचालकों की चालकता पर ताप से क्या प्रभाव पड़ता है –
    (a) ताप बढ़ाने पर बढ़ती है ✓
    (b) ताप बढ़ाने पर घटती है
    (c) ताप के समान रहती है
    (d) ताप पर निर्भर नहीं करती

हल- अर्धचालकों की चालकता ताप पर निर्भर करती है। और ताप बढ़ाने अर्धचालकों की चालकता बढ़ जाती है। जबकि प्रतिरोध घट जाता है।

7. दिए गए p-n संधि डायोड से प्रवाहित धारा का मान है –

12th class physics chapter 14 objective questions in hindi

0.1 एम्पियर
0.02 एम्पियर
0.5 एम्पियर
1.0 एम्पियर

हल- परिपथ के सिरों पर कुल विभवांतर = 8 – (-4) = 12 वोल्ट
प्रतिरोध = 600 ओम
ओम के नियम से विभवांतर V = iR
परिपथ में प्रवाहित धारा i = \large \frac{V}{R} \large \frac{12}{600}
प्रवाहित धारा i = 0.02 एम्पियर Ans.

  1. दो निवेश A और B वाले OR गेट का निर्गत शून्य होने के लिए आवश्यक है –
    (a) A=0, B=0 ✓
    (b) A=1, B=1
    (c) A=1, B=0
    (d) A=0, B=1

हल- OR गेट का निर्गत शून्य होने के लिए दोनों निवेशों शून्य होंगे।

  1. चित्र में लॉजिक गेट निरूपित करता है –
12th physics objective question ans answers in hindi

(a) AND गेट को
(b) NOT गेट को ✓
(c) NAND गेट को
(d) NOR गेट को

हल- यह प्रतीक चिन्ह NOT गेट का है।

  1. p-n-p और n-p-n में कौन सा ट्रांजिस्टर अधिक उपयोगी है –
    (a) p-n-p
    (b) n-p-n ✓
    (c) p-n-p व n-p-n दोनों
    (d) इनमें से कोई नहीं

हल- n-p-n ट्रांजिस्टर अधिक उपयोगी होता है। क्योंकि n-p-n ट्रांजिस्टर में धारा प्रवाह इलेक्ट्रॉनों से होता है। जबकि p-n-p ट्रांजिस्टर में धारा प्रभाव कोटरो से होता है। यह तो हम जानते ही हैं कि धारावाहक इलेक्ट्रॉन कोटरो की अपेक्षा अधिक गतिशील होते हैं। इसलिए ही n-p-n ट्रांजिस्टर की गतिशीलता बढ़ जाती है। यही इसका ज्यादा उपयोग करने का कारण है।

शेयर करें…

अन्य महत्वपूर्ण नोट्स


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *