फास्फोरस के अपरूप, सफेद, काला व लाल फास्फोरस के उपयोग, रसायनिक सूत्र क्या है

फास्फोरस

वर्ग 15 में नाइट्रोजन की नीचे वाला तत्व फास्फोरस (phosphorus in Hindi) है इसका परमाणु क्रमांक 15 है तथा परमाणु भार 30.97 होता है‌। फास्फोरस का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास 1s2 2s2 2p6 3s2 3p3 है। चूंकि इसमें अंतिम इलेक्ट्रॉन p-उपकक्षक में प्रवेश करता है इसलिए यह p-ब्लॉक का तत्व है। नाइट्रोजन की तुलना में फास्फोरस की क्रियाशीलता काफी अधिक होती है।

फास्फोरस के अपरूप

फास्फोरस कई अपरूपों (allotropic forms of phosphorus in Hindi) में मिलता है इनमें से तीन अपरूप प्रमुख हैं।
(1) श्वेत (सफेद) फास्फोरस
(2) लाल फास्फोरस
(3) काला फास्फोरस

1. सफेद फास्फोरस

यह अल्प पारदर्शी मोम की तरह मुलायम ठोस होता है यह जल में अविलेय परंतु कार्बन डाईसल्फाइड में विलेय होता है। यह अंधेरे में दीप्त होता है। अर्थात् चमकता है।
सफेद फास्फोरस अक्रिय वायुमंडल में उबलते NaOH विलयन में विलीन होकर फास्फीन PH3 देता है।
P4 + 3NaOH + 3H2O \longrightarrow \footnotesize \begin{array}{rcl} PH_3 \\ फाॅस्फीन \end{array} + 3NaH2PO2

सफेद फास्फोरस के गुण

  1. सफेद फास्फोरस विषैला होता है।
  2. यह जल में अविलेय परंतु कार्बन डाईसल्फाइड में विलेय होता है।
  3. सफेद फास्फोरस बहुत क्रियाशील होता है एवं यह वायु में तेजी से आग पकड़कर P4O10 देता है।
    P4 + 5O2 \longrightarrow P4O10
  4. इसे जल में एकत्रित किया जा सकता है। क्योंकि यह वायु के संपर्क में आने पर आग पकड़ लेता है।
  5. यह अंधेरे में चमकता है।

2. लाल फास्फोरस

लाल फास्फोरस, सफेद फास्फोरस से कम क्रियाशील होता है। सफेद फास्फोरस को जब अक्रिय वातावरण में 300°C (या 573K) ताप पर गर्म किया जाता है तो लाल फास्फोरस प्राप्त होता है।
सफेद फास्फोरस \xrightarrow [573K] {अक्रिय\,वातावरण} लाल फास्फोरस

लाल फास्फोरस के गुण

  1. यह लाल रंग का ठोस होता है।
  2. यह सफेद फास्फोरस से कम क्रियाशील होता है।
  3. लाल फास्फोरस जल और कार्बन डाईसल्फाइड दोनों में अविलेय है।
  4. यह अंधेरे में चमक उत्पन्न नहीं करता है इसमें लोहे जैसी धूसर चमक होती है।

3. काला फास्फोरस

लाल फास्फोरस को 803K ताप पर बंद नलिका में गर्म करने पर काला फास्फोरस प्राप्त होता है।
लाल फास्फोरस \xrightarrow {803K} काला फास्फोरस
काली फास्फोरस के दो रूप होती हैं। α-काला फास्फोरस तथा β-काला फास्फोरस।
यह अधिक स्थायी होता है एवं इसकी क्रियाशीलता बहुत कम होती है।

फास्फोरस के उपयोग

  1. सफेद फास्फोरस का उपयोग पटाखे बनाने में किया जाता है।
  2. लाल फास्फोरस का उपयोग माचिस उद्योग में किया जाता है।

शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *