गुरुत्व केंद्र किसे कहते हैं, परिभाषा, फार्मूला | centre of gravity in Hindi

गुरुत्व केंद्र

किसी पिंड का वह बिंदु जहां से उस पिंड का संपूर्ण भार केंद्रित होता है वह बिंदु उस पिंड का गुरुत्व केंद्र (centre of gravity in Hindi) कहलाता है। यह बिंदु पिंड के अंदर अथवा बाहर भी हो सकता है।

इसे उदाहरण द्वारा अच्छी तरह समझा जा सकता है।
(1) फुटबॉल खिलाड़ियों को आपने देखा होगा, कि वह बॉल को अपनी उंगली पर घुमा देते हैं। यह कैसे संभव होता है। वास्तव में वह खिलाड़ी बॉल में एक ऐसा बिंदु तलाश करते हैं जहां से बॉल का संतुलन बनाया जा सके। अर्थात सारा भार केंद्रित हो सके, यही बिन्दु बॉल का केंद्र होता है।
(2) परकार द्वारा किसी लकड़ी को गोल काटने पर परकार की जहां नोंक होती है पर उसका केंद्र बिंदु होता है। उस बिंदु पर अगर हम रस्सी बांधकर उसको ऊपर की ओर उठाते हैं। तो पूरी गोल लकड़ी सही संतुलन ऊपर उठ जाएगी।

ध्यान दें –
गुरुत्व केंद्र अलग-अलग आकृतियों के लिए अलग-अलग जगह होता है। यहां कुछ आकृतियां दी गई है।
1. गोले का गुरुत्व केंद्र – किसी गोले का गुरुत्व केंद्र जहां गोले का केंद्र होता है वही उसका गुरुत्व केंद्र कहलाता है।
2. बेलन का गुरुत्व केंद्र – किसी बेलन की ऊंचाई की आधी दूरी पर बेलन का गुरुत्व केंद्र होता है। जैसे किसी बेलन की ऊंचाई h है तो उसका गुरुत्व केंद्र h/2 ऊंचाई पर होगा।

गुरुत्व केंद्र व द्रव्यमान केंद्र में अंतर

किसी वस्तु का गुरुत्व केंद्र तथा उसका द्रव्यमान केंद्र कोई जरूरी नहीं कि एक ही स्थान पर हों। यह दोनों पद अलग-अलग हैं इन दोनों का प्रयोग अलग-अलग परिस्थितियों में होता है।
वास्तव में द्रव्यमान केंद्र का संबंध वस्तु के द्रव्यमान से ही होता है चाहे वस्तु को किसी भी स्थान पर ले जाएं उसका द्रव्यमान नियत रहता है। लेकिन गुरुत्व केंद्र किसी वस्तु का वह बिंदु होता है जहां से वस्तु के भार की क्रिया रेखा गुजरती है। लेकिन इसका मान सभी जगह समान नहीं रहता है। क्योंकि किसी वस्तु के भार का निर्धारण उस वस्तु के द्रव्यमान तथा उस स्थान पर गुरुत्वीय त्वरण के मान पर निर्भर करता है।

पढ़ें… 11वीं भौतिक नोट्स | 11th class physics notes in Hindi

कम आकार या छोटी वस्तुओं के द्रव्यमान केंद्र व गुरुत्व केंद्र के लिए हम कह सकते हैं कि यह दोनों एक ही बिंदु होंगे। लेकिन बड़े आकार की वस्तुओं के लिए द्रव्यमान केंद्र व गुरुत्व केंद्र दोनों अलग-अलग होंगे।
जैसे – ऊंचे पर्वत तथा महासागर इनके द्रव्यमान केंद्र व गुरुत्व केंद्र एक ही बिंदु नहीं होते है दोनों अलग-अलग होते हैं।

शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *