वर्ग 16 के तत्व, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, गुण, ऑक्सीकरण अवस्था, आयनन एंथैल्पी

वर्ग 16 के तत्व

वर्ग 16 के तत्वों को ऑक्सीजन परिवार के तत्व कहा जाता है। चूंकि 16 वर्ग का प्रथम सदस्य ऑक्सीजन है। इस वर्ग में ऑक्सीजन, सल्फर, सैलेनियम, टेल्यूरियम तथा पोलेनियम तत्व उपस्थित हैं। इनका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास ns2 np4 होता है।
वर्ग 16 के तत्वों का अंतिम इलेक्ट्रॉन p-उपकक्षक में प्रवेश करता है जिस कारण यह p-ब्लॉक के तत्व हैं। इस वर्ग में ऑक्सीजन तथा सल्फर अधातु हैं। जबकि सैलेनियम (Se) व टेल्यूरियम (Te) उपधातु हैं। एवं पोलेनियम (Po) धातु है।

वर्ग 15 के तत्वों के गुण

गुणऑक्सीजनसल्फरसैलेनियमटेल्यूरियमपोलेनियम
परमाणु क्रमांक816345284
परमाणु भार1632.0678.96127.60120
गलनांक K54393490725520
क्वथनांक K9071895812601235
घनत्व g/cm3 (298k)1.322.064.196.25
विद्युतऋणात्मकता3.502.582.552.011.76

1. इलेक्ट्रॉनिक विन्यास

(i) ऑक्सीजन – 8 ⇒ 1s2 2s2 2p4
(ii) सल्फर – 16 ⇒ 1s2 2s2 2p6 3s2 3p4
(iii) सैलेनियम – 34 ⇒ 1s2 2s2 2p6 3s2 3p6 3d10 4s2 4p4
(iv) टेल्यूरियम – 52 ⇒ 1s2 2s2 2p6 3s2 3p6 3d10 4s2 4p6 4d10 5s2 5p4
(v) पोलेनियम – 84 ⇒ 1s2 2s2 2p6 3s2 3p6 3d10 4s2 4p6 4d10 4f14 5s2 5p6 5d10 6s2 6p4

2. उपलब्धता

वर्ग 16 के सभी तत्वों में से पृथ्वी पर ऑक्सीजन सबसे अधिक मात्रा में पाया जाता है। सल्फर संयुक्त अवस्था में भिन्न खनिजों के रूप में मिलता है जैसे जिप्सम, गेलेना आदि। सैलेनियम तथा टेल्यूरियम सल्फाइड अयस्कों के धातु से सैलेनाइडों तथा टेल्यूराइडों के रूप में मिलता है। एवं पोलेनियम प्रकृति में थोरियम तथा यूरेनियम खनिजों के विघटन के रूप में मिलता है।

3. आयनन त्रिज्या

वर्ग में ऊपर से नीचे की ओर जाने पर परमाणु/आयनन त्रिज्याएं बढ़ती हैं एवं वर्ग 15 की अपेक्षा वर्ग 16 के तत्वों की आयनन त्रिज्याएं अधिक होती हैं।

4. अपरूपता

वर्ग 16 के सभी तत्व अपरूपता दर्शाते हैं। ऑक्सीजन के दो रूप हैं। सल्फर के भी अनेकों अपरूप हैं जैसे प्लास्टिक सल्फर, मोनोक्लिनिक सल्फर आदि।

5. विद्युतऋणात्मकता

वर्ग 16 के तत्वों में से ऑक्सीजन की विद्युतऋणात्मकता का सर्वाधिक होती है। वर्ग में ऊपर से नीचे की ओर जाने पर विद्युतऋणात्मकता का मान घटता है।

6. आयनन एंथैल्पी

वर्ग में ऊपर से नीचे की ओर जाने पर आयनन एंथैल्पी के मान में कमी आती है जिसके फलस्वरूप तत्वों के आकार में वृद्धि होती है।

7. ऑक्सीकरण अवस्था

ऑक्सीजन की ऑक्सीकरण अवस्था -2 होती है। चूंकि इसकी विद्युतऋणात्मकता अधिक होती है। जबकि वर्ग 16 के अन्य तत्वों की ऑक्सीकरण अवस्थाएं -2, +2, +4 तथा +6 प्रदर्शित करते हैं।


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *