सल्फ्यूरिक अम्ल क्या है, अणुसूत्र, बनाने की विधि, उपयोग, भौतिक व रासायनिक गुण

सल्फ्यूरिक अम्ल

सल्फ्यूरिक अम्ल एक अत्यंत महत्वपूर्ण रसायन है। संपूर्ण विश्व में सल्फ्यूरिक अम्ल अति महत्वपूर्ण रसायनों में से एक है। इसे औद्योगिक रूप से संपर्क विधि द्वारा बनाया जाता है।

Note –
सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने की विधियों में से संपर्क विधि अति महत्वपूर्ण है।
संस्पर्श प्रक्रम या संपर्क विधि दोनों एक ही नाम है। NCERT Book में संस्पर्श प्रक्रम प्रयोग किया गया है यहां हम इसे संपर्क विधि ही बोलेंगे, ताकि आप कंफ्यूज न हो।

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने की विधि

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने की कई सारी विधियां हैं इनमें से हम यहां पर संपर्क विधि का ही अध्ययन करेंगे। चूंकि एनसीआरटी बुक में संपर्क विधि ही दे रखी है।

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने की संपर्क विधि

इस विधि में शुद्ध सल्फर डाईऑक्साइड तथा वायु के मिश्रण को वैनेडियम पेंटोक्साइड (V2O5) उत्प्रेरक की उपस्थिति में संयोग करके सल्फर ट्राईऑक्साइड प्राप्त होता है।
2SO2 + O2 \rightleftharpoons 2SO3
तथा सल्फर ट्राईऑक्साइड को सांद्र सल्फ्यूरिक अम्ल में अवशोषित करके ओलियम प्राप्त होता है।
SO3 + H2SO4 \longrightarrow H2S2O7
अब ओलियम, जल से संयोग करके सल्फ्यूरिक अम्ल बनाता है।
H2S2O7 + H2O \longrightarrow 2H2SO4

सल्फ्यूरिक अम्ल
सल्फ्यूरिक अम्ल

संपर्क विधि, सल्फ्यूरिक अम्ल प्राप्त करने की एक आधुनिक विधि है। इस विधि में H2SO4 औद्योगिक स्तर पर बनाया जाता है। यह विधि सस्ती एवं सरलता से संपन्न की जाने वाली होती है।
संपर्क विधि द्वारा प्राप्त सल्फ्यूरिक अम्ल की शुद्धता सामान्यतः 96-98% होती है।

सल्फ्यूरिक अम्ल के भौतिक गुण

  1. सल्फ्यूरिक अम्ल एक रंगहीन, गाढ़ा तेल जैसा द्रव है।
  2. यह जल में विलेय होने पर काफी मात्रा में ऊष्मा उत्सर्जित करता है।
  3. यह त्वचा के संपर्क में आने पर त्वचा को जलाकर बहुत घाव डाल सकता है।
  4. यह 283K ताप पर जम जाता है तथा 611K ताप पर उबलने लगता है।

सल्फ्यूरिक अम्ल के रासायनिक गुण

► H2SO4 प्रबल द्विक्षारकी अम्ल के रूप में कार्य करता है।
H2SO4 \longrightarrow H+ + HSO4

► सल्फ्यूरिक अम्ल एक ऑक्सीकारक का कार्य करता है। यह कार्बन को कार्बन डाईऑक्साइड, सल्फर को सल्फर डाइऑक्साइड में ऑक्सीकृत कर देता है।
C + 2H2SO4 \longrightarrow CO2 + 2SO2 + 2H2O
S + 2H2SO4 \longrightarrow 3SO2 + 2H2O

► H<sub>2</sub>SO<sub>4</sub एक प्रबल निर्जलीकरण है। अतः यह सुक्रोस, लकड़ी तथा कागज आदि पदार्थों का निर्जलीकरण द्वारा कार्बन में परिवर्तित कर देता है।
C12H22O11 \xrightarrow {सांद्र\,H_2SO_4} 12C + 11H2O

► धातुएं सल्फ्यूरिक अम्ल से क्रिया करके हाइड्रोजन युक्त करती हैं।
Zn + H2SO4 \longrightarrow ZnSO4 + H2
2Al + 3H2SO4 \longrightarrow Al2(SO4)3 + 3H2

सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग

  1. सल्फ्यूरिक अम्ल का अधिकांश उपयोग उर्वरकों के उत्पादन में किया जाता है।
  2. इसका उपयोग संचायक बैटरियों में किया जाता है।
  3. सल्फ्यूरिक अम्ल प्रयोगशाला में अभिकर्मक के रूप में प्रयोग में लाया जाता है।
  4. पेट्रोलियम के शोधन में इस अम्ल का प्रयोग किया जाता है।
  5. अपमार्जक उद्योग में H2SO4 प्रयोग किया जाता है।

शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published.