वीन का विस्थापन नियम क्या है | wien’s law in Hindi class 11

वीन का विस्थापन नियम

जब किसी कृष्णिका का ताप बढ़ाते हैं तो कृष्णिका से उत्सर्जित अधिकतम ऊर्जा विकिरण कम तरंगदैर्ध्य की ओर विस्थापित होती है। अर्थात् अधिक ताप बढ़ने पर तरंगदैर्ध्य का मान घटता है।
किसी आदर्श कृष्णिका से उत्सर्जित अधिकतम ऊर्जा की तरंगदैर्ध्य (λm) उसके परमताप T के व्युत्क्रमानुपाती होती है। अर्थात्
λm \large \frac{1}{T}
λm = \large \frac{b}{T}
जहां एक b नियतांक है जिसे वीन नियतांक कहते हैं। तो
\footnotesize \boxed { λ_m × T = b (नियतांक) }
वीन नियतांक का मात्रक मीटर-केल्विन होता है। प्रयोग द्वारा इसका मान 2.90 × 103 प्राप्त होता है।

वीन का विस्थापन नियम
वीन का विस्थापन नियम

इस नियम के अनुसार यह भी कहा जा सकता है कि कृष्णिका, विकिरण के स्पेक्ट्रमी वितरण वक्रों में ताप वृद्धि के साथ अधिकतम तरंगदैर्ध्य के संगत वक्र का उच्चतम ताप, कम तरंगदैर्ध्य की ओर विस्थापित होता है। इसी कारण इसे वीन का विस्थापन नियम कहते हैं।

वीन के विस्थापन नियम से सूर्य अथवा आकाशीय पिंडों का ताप ज्ञात कर सकते हैं। प्रयोग द्वारा सूर्य का ताप
इसके लिए λm = 4753
λm = 4753 × 10-10
सूर्य का ताप T = \large \frac{b}{λ_m}
T = \large \frac{2.9 × 10^{-3}}{4753 × 10^{-10}}
T = 6100 केल्विन
अतः वीन के विस्थापन नियम के अनुसार सूर्य का ताप 6100 केल्विन होता है।

पढ़ें… 11वीं भौतिक नोट्स | 11th class physics notes in Hindi

आशा करते हैं कि आपको वीन का विस्थापन नियम संबंधी यह अध्याय पसंद आया होगा। अगर आपको पसंद आया है। तो इसे अपनी क्लासमेट के साथ जरूर शेयर करें।
और आपको जो भी परेशानी हो वह हमें कमेंट के माध्यम से बताएं, हम जल्द ही आपकी परेशानी का जवाब देंगे

शेयर करें…

One thought on “वीन का विस्थापन नियम क्या है | wien’s law in Hindi class 11

Leave a Reply

Your email address will not be published.