बोरॉन का असंगत व्यवहार को समझाइए एवं इसके महत्वपूर्ण यौगिक

बोरॉन का असंगत व्यवहार

बोरॉन आवर्त सारणी के p ब्लॉक के वर्ग 13 का प्रथम सदस्य है। जिस कारण यह वर्ग के अन्य तत्वों से भिन्नता प्रदर्शित करता है। बोरॉन प्रकृति में मुक्त अवस्था में नहीं पाया जाता है यह संयुक्त अवस्था में बोरिक अम्ल, बोरेक्स तथा बोरोसाइड आदि खनिजों में पाया जाता है। बोरॉन के असंगत व्यवहार के निम्नलिखित कारण है जो निम्न प्रकार से हैं।

  • वर्ग के सभी तत्वों के ट्राई क्लोराइड, ब्रोमाइड तथा आयोडाइड सहसंयोजक प्रकृति के होने के कारण जल अपघटित हो जाते हैं। जबकि बोरॉन के नहीं होते हैं।
  • बोरॉन के अतिरिक्त अन्य सभी तत्वों की चतुष्फलकीय स्पीशीज [M(OH)4] तथा अष्ठफलकीय स्पीशीज [M(H2O)6]3+ जलीय विलयन में उपस्थित रहते हैं।
  • बोरॉन अपरूपता प्रदर्शित करता है। इसके दो अपरूप हैं अक्रिस्टलीय और क्रिस्टलीय। जबकि एलुमिनियम अपरूपता प्रदर्शित नहीं करता है।
  • बोरॉन के d-कक्षक का अनुपस्थित रहते हैं फलतः इसकी अधिक संयोजकता 4 हो सकती है। जबकि एल्युमीनियम व अन्य वर्ग के तत्वों के d-कक्षक उपस्थित रहते हैं। अतः इनकी अधिकतम संयोजकता 4 से अधिक भी हो सकती है।
  • बोरॉन के हाइड्रोक्सी यौगिक जैसे – H3BO3 अम्ल हैं जबकि एलुमिनियम की हाइड्रोक्साइड जैसे – Al(OH)3 उभयधर्मी हैं।
  • बोरॉन का वर्ग के अन्य सदस्यों की तुलना में गलनांक अति उच्च होता है तथा यह अधात्विक ठोस है।
  • बोरॉन सक्रिय धातुओं के साथ बोराइड बनाता है। जैसे Mg3B2 । जबकि एलुमिनियम दूसरे धातुओं के साथ मिश्रधातु बनाता है।

बोरॉन के यौगिक

बोरॉन के महत्वपूर्ण अनेक यौगिक हैं जिन सभी पर हमारे द्वारा अलग-अलग आर्टिकल तैयार किए गए हैं। ताकि उन सभी महत्वपूर्ण यौगिकों को समझने में आसानी हो। बोरॉन के कुछ महत्वपूर्ण यौगिक निम्न प्रकार से हैं।
1. बोरेक्स अथवा सुहागा क्या है, बनाने की विधि, गुण, उपयोग, रासायनिक नाम व सूत्र
2. ऑर्थोबोरिक अम्ल या बोरिक अम्ल क्या है, बनाने की विधि, गुण, उपयोग व सूत्र
3. डाइबोरेन क्या है, बनाने की विधि, गुण, संरचना एवं उपयोग का वर्णन कीजिए

बोरॉन तथा इसके यौगिक के उपयोग

उच्च गलनांक, निम्न घनत्व, कम विद्युत चालकता एवं अत्यधिक कठोर होने के कारण बोरॉन के अन्य अनुप्रयोग हैं जो निम्न प्रकार से हैं।
1. बोरॉन तंतुओं का प्रयोग बुलेट प्रूफ जैकेट बनाने में तथा वायुयानों के हल्के सघन पदार्थों के निर्माण में होता है।
2. बोरेक्स तथा बोरिक अम्ल का मुख्य औद्योगिक उपयोग उच्च ताप को सहने वाले कांच जैसे – पायरेक्स, ग्लास बुल तथा फाइबर गिलास के निर्माण में होता है।
3. बोरिक अम्ल का जलीय विलयन सामान्यतः पूर्तिरोधी के रूप में प्रयुक्त किया जाता है।


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *