कार्बन का असंगत व्यवहार तथा महत्वपूर्ण यौगिक और उपयोग बताइए

कार्बन का असंगत व्यवहार

वर्ग 14 के तत्वों के बाह्य कोश का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास ns2np2 होता है। अतः बाह्य कोश की इलेक्ट्रॉनिक संरचना में समानता होने के कारण वर्ग 14 के तत्व कई गुणों में समानताएं प्रदर्शित करते हैं। परंतु बाह्य कोश से एक पिछले कोश में
C → 2, Si → 8, Ge → 18, Sn → 18 तथा Pb → 18 इलेक्ट्रॉन होते हैं।
अतः इस भिन्नता के कारण कार्बन और सिलिकन के गुणों में तथा Si और Ge, Sn, Pb के गुणों में अनेक असमानताएं पायी जाती हैं जो निम्न प्रकार से हैं।

  • कार्बन म में केवल s-और p-कक्षक ही के बंधन के लिए उपस्थित रहते हैं। अतः कार्बन अपने चारों ओर केवल चार इलेक्ट्रॉन युग्म ही समायोजित कर सकता है जबकि अन्य तत्वों में d-कक्षकों की उपस्थिति होती है जिस कारण उनकी संयोजकता में वृद्धि हो सकती है।
  • कार्बन में अन्य परमाणुओं के साथ सहसंयोजक बंध द्वारा जोड़कर लंबी श्रृंखला बनाने की प्रवृत्ति होती है इस प्रवृत्ति को श्रृंखलन कहते हैं। वर्ग में ऊपर से नीचे की ओर जाने पर श्रृंखलन की प्रवृत्ति घटती जाती है।
  • कार्बन परमाणु स्वयं के साथ तथा ऑक्सीजन, सल्फर और नाइट्रोजन परमाणु से द्वि-बंध या त्रि-बंध बनाने की प्रवृत्ति होती है। C≡C, C=O, C=S तथा C≡N आदि।
  • C–C बंध की बंधन ऊर्जा 85 Kcal/mol और Si–Si बंध की बंधन ऊर्जा 53 Kcal/mol होती है। अतः कार्बन में श्रृंखलित होने की प्रवृत्ति सिलिकन की तुलना में अत्यधिक प्रबल होती है।
  • कार्बन के विद्युत ऋणात्मकता 2.5 होती है जबकि सिलिकन की विद्युत ऋणात्मकता 1.8 होती है।
  • कार्बन का गलनांक 4373K होता है अतः जो वर्ग के अन्य सभी तत्वों की तुलना में सबसे अधिक है।

कार्बन के यौगिक

कार्बन के दो महत्वपूर्ण ऑक्साइड हैं।
1. कार्बन मोनो ऑक्साइड क्या है, बनाने की विधि, गुण, उपयोग, फार्मूला तथा प्रकृति
2. कार्बन डाइऑक्साइड क्या है, सूत्र CO2, उपयोग, बनाने की विधि, गुण

कार्बन के उपयोग

  1. प्लास्टिक पदार्थ में अंतःस्थापित ग्रेफाइट तंतु का उपयोग उच्च सामर्थ्य वाली वस्तुओं जैसे मछली पकड़ने की छड़, टेनिस रॉकेट तथा वायुयान के निर्माण में किया जाता है।
  2. डायमंड पदार्थों में सबसे कठोर होता है इस कठोरता के कारण इसका उपयोग चट्टानों को भेदने और कठोर पदार्थ को काटने में किया जाता है।
  3. ग्रेफाइट विद्युत का एक अच्छा सुचालक होता है जिस कारण इसका उपयोग बैटरियों के इलेक्ट्रोड के निर्माण में तथा औद्योगिक विद्युत अपघटन में किया जाता है।

आशा है कि कार्बन के असंगत व्यवहार का यह आर्टिकल आपके लिए काफी महत्वपूर्ण रहा होगा अगर आपको इसमें कोई कमी यह गलती लगती है तो आप हमें कमेंट द्वारा अवश्य बताएं।
धन्यवाद


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *