मोलर चालकता, तुल्यांकी, विद्युत अपघटनी, आणविक चालकता किसे कहते हैं, मात्रक परिभाषा

चालकता

प्रतिरोध के व्युत्क्रम को चालकता कहते हैं।
\footnotesize \boxed { C = \frac{1}{R} }
इसका मात्रक प्रति ओम होता है।

मोलर चालकता

किसी विद्युत अपघट्य के 1 ग्राम अणु को घोलने पर प्राप्त विलयन की चालकता को उस विलयन की मोलर चालकता (Molar conductivity in Hindi) कहते हैं। इसे आणविक चालकता भी कहते हैं। इसे λm से प्रदर्शित करते हैं।
\footnotesize \boxed { λ_m = κ × V }
जहां κ = विशिष्ट चालकता है।
या \footnotesize \boxed { λ_m = \frac{κ × 1000}{M} }
जहां M विलयन की मोलरता है।
मोलर चालकता का मात्रक (इकाई) सेंमी/ओम-मोल होता है।

तुल्यांकी चालकता

किसी विद्युत अपघट्य के 1 ग्राम तुल्यांक को घोलने पर प्राप्त विलयन की चालकता को तुल्यांकी चालकता (equivalent conductivity in Hindi) कहते हैं इसे Λeqसे प्रदर्शित करते हैं।
\footnotesize \boxed { Λ_{eq} = κ × V }
जहां V = विलयन का आयतन मिली (mL) में है तो
\footnotesize \boxed { Λ_{eq} = \frac{κ × 1000}{N} }
जहां κ = विशिष्ट चालकता
N = विलयन की नाॅर्मलता है।
तुल्यांकी चालकता का मात्रक सेंमी/ओम-तुल्यांक होता है।

विशिष्ट चालकता

जब किसी विद्युत अपघट्य के विलयन में किन्ही इलेक्ट्रॉडों की सहायता से विद्युत धारा का प्रवाह किया जाता है तो चालक का प्रतिरोध, उन इलेक्ट्रॉडों के बीच की दूरी के अनुक्रमानुपाती होता है। एवं उनके क्षेत्रफल के व्युत्क्रमानुपाती होता है।
R ∝ \large \frac{l}{A}
R = ρ \large \frac{l}{A}
जहां ρ = विशिष्ट प्रतिरोध है।

अतः विशिष्ट प्रतिरोध के व्युत्क्रम को विशिष्ट चालकता कहते हैं। इसे κ (कप्पा) से प्रदर्शित करते हैं। तो
R ∝ \large \frac{1}{ρ}
तथा \footnotesize \boxed { κ = C × \frac{l}{A} }
जहां C = चालकता है।
विशिष्ट चालकता का मात्रक ओम-1-सेंमी-1 होता है।

मोलर चालकता तथा विशिष्ट चालकता में संबंध

\footnotesize \boxed { λ_m = \frac{κ × 1000}{विलयन\,की\,मोलरता} }
जहां λm = मोलर चालकता
κ = विशिष्ट चालकता है।

मोलर चालकता तथा तुल्यांकी चालकता में संबंध

\footnotesize \boxed { λ_m = \frac{अणुभार}{तुल्यांकी\,भार} × Λ_{eq} }
जहां λm = मोलर चालकता
λeq = तुल्यांकी चालकता है।


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *