मोलरता क्या है, सूत्र मात्रक, आंकिक प्रश्न, उदाहरण, ताप का प्रभाव, molarity in Hindi

मोलरता

निश्चित ताप पर एक लीटर विलयन में विलीन विलेय पदार्थ के मोलों की संख्या को विलयन की मोलरता (molarity in Hindi) कहते हैं।
\footnotesize \boxed { मोलरता = \frac{विलेय\,के\,मोलों\,की\,संख्या}{विलयन\,का\,आयतन\,(ली.में)} }
यदि किसी विलयन का आयतन V लीटर हो एवं उसमें विलेय के n मोल उपस्थित हों तो
मोलरता \footnotesize \boxed { M = \frac{n}{V} } मोल/लीटर
यदि w – विलेय का अणुभार (ग्राम में) , V – विलयन का आयतन (मिलीलीटर में) m – विलय का अणुभार (ग्राम में) तथा M विलयन की मोलरता हो तो
\footnotesize \boxed { M = \frac{w}{m} × \frac{1000}{V} }
मोलरता का मात्रक मोल/लीटर होता है।

मोलरता के उदाहरण

1. शुद्ध जल का घनत्व 1 ग्राम/मिली होता है। अर्थात् 1 मिली का भार 1 ग्राम होगा। तो
जल की सांद्रता = 1000 ग्राम/ली
शुद्ध जल की मोलरता = \frac{सांद्रता (g/L)}{अणुभार}
क्योंकि जल H2O का अणुभार 18 होता है तो
मोलरता = \frac{1000}{18}
मोलरता = 55.55
अति शुद्ध जल की मोलरता 55.56 M होती है।

मोलरता के आंकिक प्रश्न

  1. उस विलयन की मोलरता ज्ञात कीजिए, जिसके 7.45 ग्राम पोटेशियम क्लोराइड (KCl) को 500 मिलीलीटर विलयन में घोला गया हो।

हल –
पोटेशियम क्लोराइड KCl के मोलों की संख्या = \frac{भार}{अणुभार}
KCl का अणुभार 74.5 होता है तो
KCl के मोलों की संख्या = \frac{7.45}{74.5}
KCl के मोलों की संख्या = 0.1 मोल
अतः विलयन की मोलरता = \frac{मोल × 1000}{आयतन}
विलयन की मोलरता = \frac{0.1 × 1000}{500}
विलयन की मोलरता = 0.2 मोल/लीटर

  1. 5.85 ग्राम सोडियम क्लोराइड को 250 मिलीलीटर जल में घोलने पर विलयन की मोलरता होगी?

हल –
सूत्र मोलरता M = \frac{w}{m} × \frac{1000}{V}
जहां भार w = 5.85 ग्राम
अणुभार m = NaCl = 23 + 35.5 = 58.5
आयतन V = 250 मिलीलीटर
तब मोलरता M = \frac{5.85}{58.5} × \frac{1000}{250}
मोलरता M = 0.4 मोल/लीटर
अतः विलयन की मोलरता 0.4 मोल/लीटर है।


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *