Kp व Kc में संबंध स्थापित कीजिए | relation between Kp and Kc in Hindi

साम्य स्थिरांक Kc

स्थिर ताप पर किसी उत्क्रमणीय अग्र अभिक्रिया तथा विपरीत अभिक्रिया के वेग स्थिरांकों के अनुपात को अभिक्रिया का साम्य स्थिरांक कहते हैं। इसे Kc से प्रदर्शित किया जाता है।
\footnotesize \boxed { K_c = \frac{k_f}{k_b} }
अभिक्रिया   A(g) + B(g) \rightleftharpoons C(g) + D(g)
साम्य स्थिरांक Kc = \frac{[C][D]}{[A][B]}

आंशिक दाब के रूप में साम्य स्थिरांक Kp

गैसीय अभिक्रिया के लिए साम्य स्थिरांक को आंशिक दाब के रूप में प्रदर्शित किया जाता है। स्थिर ताप पर गैसीय मिश्रण में उपस्थित किसी गैस का आंशिक दाब उसकी मोलर सांद्रता के समानुपाती होता है।
स्थिर ताप पर किसी उत्क्रमणीय अभिक्रिया के लिए
aA(g) + bB(g) \rightleftharpoons cC(g) + dD(g)
द्रव्य अनुपाती क्रिया का नियम लगाने पर साम्य स्थिरांक व्यंजक आंशिक दाब के रूप में प्राप्त होता है।
Kp = \large \frac{p_C^c × p_D^d}{p_A^a × p_B^b}
जहां pA, pB, pC तथा pD क्रमशः A, B, C तथा D के साम्यावस्था पर आंशिक दाब हैं।

पढ़ें… लुईस अम्ल क्षार सिद्धांत क्या है वर्णन कीजिए, सूत्र, एक उदाहरण दीजिए, परिभाषा

Kp व Kc में संबंध

माना स्थिर ताप पर एक सामान्य उत्क्रमणीय गैसीय अभिक्रिया है।
aA(g) + bB(g) \rightleftharpoons cC(g) + dD(g)
द्रव्य अनुपाती क्रिया का नियम लगाने पर आंशिक दाब के रूप में अभिक्रिया का साम्य स्थिरांक
Kp = \large \frac{p_C^c × p_D^d}{p_A^a × p_B^b} समी.①
जहां pA, pB, pC तथा pD क्रमशः A, B, C तथा D पदार्थो के साम्यावस्था पर आंशिक दाब हैं। तथा a, b, c तथा d उनकी मोलो की संख्याएं हैं।
तथा मोलर सांद्रताओं के रूप में अभिक्रिया का साम्य स्थिरांक
Kc = \frac{[C]^c [D]^d}{[A]^a [B]^b} समी.②
जहां [A], [B], [C] तथा [D] क्रमशः A,B, C तथा D की साम्यवस्था पर मोलर सांद्रताएं हैं।

अब आदर्श गैस समीकरण के अनुसार
PV = nRT
जहां P दाब, V आयतन, n मोलो की संख्या, R गैस स्थिरांक तथा T परमताप है।
साम्य पर गैस का दाब = गैस की मोलर सांद्रता × RT
तब गैस A का आंशिक दाब pA = [A] × RT
गैस B का आंशिक दाब pB = [B] × RT
गैस C का आंशिक दाब pC = [C] × RT
गैस D का आंशिक दाब pD = [D] × RT
तब pA, pB, pC तथा pD के मान समी.① में रखने पर
Kp = \frac{([C] RT)^c × ([D] RT)^d}{([A] RT)^a × ([B] RT)^b}
Kp = \frac{[C]^c [D]^d × RT^c × RT^d}{[A]^a [B]^b × RT^a × RT^b}
चूंकि गुणा में घातें जुड़ जाती हैं तब
Kp = \frac{[C]^c [D]^d}{[A]^a [B]^b} × \frac{RT^{c+d}}{RT^{a+b}}
समी.② का मान रखने पर
\footnotesize \boxed { K_p = K_c × RT^{(c+d)-(a+b)} }
यही Kp व Kc के बीच संबंध का सूत्र है। अतः इस प्रकार केपी और केसी के बीच संबंध ज्ञात किया जाता है।


शेयर करें…

StudyNagar

हेलो छात्रों, मेरा नाम अमन है। Physics, Chemistry और Mathematics मेरे पसंदीदा विषयों में से एक हैं। मुझे पढ़ना और पढ़ाना बहुत ज्यादा अच्छा लगता है। मैंने 2019 में इंटरमीडिएट की परीक्षा को उत्तीर्ण किया। और इसके बाद मैंने इंजीनियरिंग की शिक्षा को उत्तीर्ण किया। इसलिए ही मैं studynagar.com वेबसाइट के माध्यम से आप सभी छात्रों तक अपने विचारों को आसान भाषा में सरलता से उपलब्ध कराने के लिए तैयार हूं। धन्यवाद

View all posts by StudyNagar →

One thought on “Kp व Kc में संबंध स्थापित कीजिए | relation between Kp and Kc in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *