वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन क्या है | relative lowering vapour pressure in hindi

वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन

जब कोई अवाष्पशील पदार्थ किसी शुद्ध विलायक में मिश्रित कर दिया जाता है तो विलायक के वाष्पदाब में कमी आ जाती है। जिसे वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन (relative lowering vapour pressure in hindi) कहते हैं।
वाष्पदाब का आपेक्षिक अवनमन एक अणुसंख्यक गुणधर्म है।

किसी विलयन का वाष्पदाब उसने विलीन विलेय की मात्रा के अनुक्रमानुपाती होता है। अर्थात्
वाष्पदाब में अवनमन ∝ विलेय की मात्रा
यदि कोई अवाष्पशील विलेय पदार्थ किसी विलीन करने पर विलयन का वाष्पदाब Ps है। एवं इसमें उपस्थित विलायक का वाष्पदाब Po है। तो
वाष्पदाब में अवनमन = Po – Ps
वाष्पदाब में अवनमन तथा विलायक के वाष्पदाब के अनुपात को वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन कहते हैं। अर्थात
\footnotesize \boxed { वाष्पदाब\,में\,अपेक्षित\,अवनमन = \frac{P^o - P_s}{P^o} }

Note –
राउल्ट के नियम के अनुसार वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन विलयन में विलेय पदार्थ के मोल प्रभाज के समानुपाती होता है। अर्थात्
\large \frac{P^o - P_s}{P^o} = मोल प्रभाज
चूंकि मोल प्रभाज = \large \frac{n}{n + N} होता है तब
\footnotesize \boxed { \frac{P^o - P_s}{P^o} = \frac{n}{n + N} }
जहां n – विलेय के मोलों की संख्या तथा N – विलायक के मोलों की संख्या है।
चूंकि हम जानते हैं कि
मोलों की संख्या = भार/अणुभार होता है
n = \large \frac{w}{m}
N = \large \frac{W}{M}
तो वाष्पदाब में आपेक्षिक अवनमन
\footnotesize \boxed { \frac{P^o - P_s}{P^o} = \frac{w/m}{w/m + W/M} }
तनु विलयन के लिए
\large \frac{P^o - P_s}{P^o} = \large \frac{n}{N}
या \footnotesize \boxed { \frac{P^o - P_s}{P^o} = \frac{w}{m} × \frac{M}{W} }
जहां w = विलेय का भार
m = विलेय का अणुभार
W = विलायक का भार
M = विलायक का अणुभार

ध्यान दें
यह जो ऊपर बॉक्स में सूत्र है। इन
से सूत्र से संबंधित आंकिक प्रश्न वार्षिक परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। इसलिए इन्हें याद रखें।
एक प्रश्न नीचे भी दिया गया है जो आपके लिए काफी सहायक होगा।

आंकिक प्रश्न

1. कोई अवाष्पशील विलेय पदार्थ जिसका अणुभार 160 है। उसके 16 ग्राम भाग को 100 ग्राम जल में विलीन कर दिया जाता है। तो विलयन के वाष्पदाब की गणना कीजिए। जबकि जल का वाष्पदाब 18mm है।

हल – दिया है
विलेय का भार w = 16 ग्राम
विलेय का अणुभार m = 160
एवं जल का भार W = 100 ग्राम
जल का अणुभार M = 2 + 2 × 8 ⇒ 18
जल का वाष्पदाब Po = 18mm
विलयन का वाष्पदाब = ?
राउल्ट के नियमानुसार \large \frac{P^o - P_s}{P^o} = \large \frac{w}{m} × \frac{W}{M}
मान रखने पर
\large \frac{18 - P_s}{18} = \large \frac{16}{160} × \frac{18}{100}
18 – Ps = 0.324
Ps = 18 – 0.324
\footnotesize \boxed { P_s = 17.676 }
अतः विलयन का वाष्पदाब 17.676 mm होगा।

शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *