क्लोरोफॉर्म क्या है, उपयोग, सूत्र, भौतिक व रासायनिक गुण, बनाने की विधि

क्लोरोफॉर्म

यह मेथेन का ट्राइक्लोरो व्युत्पन्न है। इसको अणुसूत्र CHCl3 होता है। साधारणतः इसे क्लोरोफॉर्म (chloroform in Hindi) कहते हैं। इसका IUPAC नाम ट्राईक्लोरोमेथेन होता है।

क्लोरोफॉर्म बनाने की विधि

क्लोरोफॉर्म को निम्न विधियों द्वारा बनाया जाता है।
1. क्लोरोफॉर्म का निर्माण सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में मेथेन के क्लोरोनीकरण करने पर किया जाता है।
CH4 \xrightarrow [h\nu] {Cl_2} CH3Cl \xrightarrow {Cl_2} CH2Cl2 \xrightarrow {Cl_2} \scriptsize \begin{array}{rcl} CHCl_3 \\ क्लोरोफॉर्म \end{array}

2. प्रयोगशाला में क्लोरोफॉर्म का निर्माण एथिल एल्कोहाॅल (ऐथेनाॅल) को विरंजक चूर्ण (ब्लीचिंग पाउडर) के साथ गर्म करके किया जाता है। यह प्रक्रिया निम्न पदों में संपन्न होती है।

(a) \scriptsize \begin{array}{rcl} CaOCl_2 \\ विरंजक\,चूर्ण \end{array} + H2O \longrightarrow Ca(OH)2 + Cl2
(b) \scriptsize \begin{array}{rcl} CH_3CH_2OH \\ ऐथेनाॅल \end{array} + Cl2 \longrightarrow CH2CHO + 2HCl
(c) CH3CHO + 3Cl2 \longrightarrow CCl3CHO + 3HCl
(d) 2CCl3CHO + Ca(OH)2 \longrightarrow \scriptsize \begin{array}{rcl} CHCl_3 \\ क्लोरोफॉर्म \end{array} + (HCOO)2Ca

क्लोरोफॉर्म के भौतिक गुण

  • क्लोरोफॉर्म रंगहीन, मीठी गंध वाला भारी द्रव है।
  • यह जल में अविलेय है परंतु ईथर और एल्कोहोल में विलेय है। यह अधिकांश कार्बनिक विलायक में विलय है।
  • क्लोरोफॉर्म को सूंघने पर बेहोशी आ जाती है।
  • इसका क्वथनांक 61°C (334K) होता है तथा हिमांक 210K है।

क्लोरोफॉर्म के रासायनिक गुण

(a) क्लोरोफॉर्म, Zn तथा ‌HCl के साथ क्रिया करके मेथिलीन क्लोराइड में अपचयित हो जाता है।
CHCl3 + 2H \xrightarrow {Zn + HCl} CH2Cl2 + HCl

(b) क्लोरोफॉर्म की सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में क्लोरीन से क्रिया करके कार्बन टेट्राक्लोराइड प्राप्त होता है।
CHCl3 + Cl2 \xrightarrow {सूर्य\,का\,प्रकाश} CCl4 + HCl

(c) क्लोरोफॉर्म को सिल्वर चूर्ण के साथ गर्म करने पर एसिटिलीन गैस प्राप्त होती है।
2CHCl3 + 6Ag \xrightarrow {∆} C2H2 + 6AgCl

क्लोरोफॉर्म के उपयोग

  1. क्लोरोफॉर्म का उपयोग वसा, एल्कोहोल, आयोडीन तथा अन्य पदार्थों के लिए विलायक के रूप में किया जाता है।
  2. इसका उपयोग शल्य चिकित्सा में निश्चेतक के रूप में किया जाता था लेकिन यह अधिक मात्रा में घातक है। इसलिए इसके स्थान पर अन्य सुरक्षित निश्चेतकों का उपयोग किया जाता है।
  3. इसका उपयोग प्रयोगशाला में अभिकर्मक के रूप में भी किया जाता है।
  4. औषधियों में भी इसका उपयोग किया जाता है।

पढ़ें… आयोडोफाॅर्म क्या है, बनाने की विधि, सूत्र, उपयोग, परीक्षण तथा रासायनिक अभिक्रिया लिखिए
पढ़ें… कार्बन टेट्राक्लोराइड क्या है, उपयोग, फार्मूला, बनाने की विधि, भौतिक व रासायनिक गुण

क्लोरोफॉर्म संबंधी एक प्रश्न बहुत महत्वपूर्ण है यह परीक्षाओं में भी कई बार पूछा जा चुका है। परीक्षाओं इसके आने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

क्लोरोफॉर्म को रंगीन बोतल में रखा जाता है क्यों?

क्लोरोफॉर्म को रंगीन बोतल में रखा जाता है क्योंकि यह वायु के साथ मिलकर एक अत्यंत विषैली गैस बनाता है जिसे फाॅस्जीन (COCl2) कहते हैं।
2CHCl3 + O2 \xrightarrow {प्रकाश} 2COCl2 + 2HCl
इस कारण क्लोरोफॉर्म को गहरे रंग की बोतल में रखा जाता है जिससे प्रकार और वायु इसके अंदर ना जा सके।

क्लोरोफॉर्म संबंधित प्रश्न-उत्तर

1. क्लोरोफॉर्म का रासायनिक नाम क्या है?

Ans. ट्राईक्लोरोमेथेन

2. क्लोरोफॉर्म का गलनांक कितना होता है?

Ans. 61°C (334K)

3. क्लोरोफॉर्म का सूत्र क्या होता है?

Ans. CHCl3


शेयर करें…

5 thoughts on “क्लोरोफॉर्म क्या है, उपयोग, सूत्र, भौतिक व रासायनिक गुण, बनाने की विधि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *