सिलिकेट खनिज क्या है, संरचना, गुण तथा प्रकार, ऑर्थो एवं पायरो सिलिकेट

सिलिकेट खनिज

सिलिकन परमाणु की ऑक्सीजन परमाणुओं के प्रति उच्च बंधुता होने के कारण प्रकृति में सिलिका और विभिन्न प्रकार के सिलिकेट खनिज बहुत बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं। सिलिकेट के कुछ महत्वपूर्ण खनिज निम्न प्रकार से हैं। फेल्डस्पर, जिओलाइट, श्वेत अभ्रक तथा एस्बेस्टस आदि।

सिलिका और सिलिकेट खनिज औद्योगिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण व उपयोगी पदार्थ हैं। इनका उपयोग सीमेंट, कांच और सिरेमिक आदि के निर्माण में किया जाता है। सिलिकेट की मूल संरचनात्मक इकाई [SiO4]4- है। जिसकी चतुष्फलकीय संरचना होती है। अर्थात जिनमें सिलिकॉन परमाणु 4 ऑक्सीजन परमाणुओं से चतुष्फलक रूप से बंधित रहता है।
SiO4 यूनिट के साझे के ऑक्सीजन परमाणुओं की संख्या प्रति सिलिकन परमाणु 0, 1, 2, 3 या 4 होने के अनुसार विभिन्न प्रकार की सिलिकेट संरचनाएं बनती हैं।

सिलिकेट की संरचना

ऑर्थो सिलिकेट का सूत्र [SiO4]4- और पायरोसिलिकेट का सूत्र [Si2O7]6- होता है। सिलिकन डाइऑक्साइड (SiO2) यूनिट पर कोश आवेश उपस्थित नहीं होता है। क्योंकि SiO2 इकाई के चारों ओर ऑक्सीजन परमाणुओं का साझा हो जाता है। इसकी संरचना को चित्र में व्यक्त किया गया है।

सिलिकेट की संरचना
सिलिकेट की संरचना

ऑर्थो सिलिकेट [SiO4]4- की संरचना चतुष्फलकीय होती है। SiO4 समूह को एक चतुष्फलक द्वारा दर्शाया जाता है। जिसके केंद्र में सिलिकन परमाणु तथा सिरों पर ऑक्सीजन परमाणु होते हैं।

एनायन साझा

जब एक ऑक्सीजन परमाणु दो चतुष्फलक के बीच साझा होता है। तो इसके परिणामस्वरूप एनायन बनते हैं। जैसे –
धातु पायरोसिलिकेट में पायरोसिलिकेट ऋणायन [Si2O7]6- उपस्थित होता है। पायरोसिलिकेट ऋणायन एक पॉलिसिलिकेट ऋणायन है। जिसमें दो चतुष्फलक एक ऑक्सीजन परमाणु से एक दूसरे से बंधित रहते हैं।

सिलिकेट खनिज

सिलिकेट जिसमें ये एनायन उपस्थित होते हैं उनके उदाहरण निम्न प्रकार से हैं। Be27, Tl2+Si3 O96- और (Ca2+Mg2+ SiO32-)2

पायरॉक्सिन सिलिकेट एनायन

जब प्रत्येक चतुष्फलकीय में तीन ऑक्सीजन परमाणु से साझा होता है। तो इसके परिणामस्वरूप पायरॉक्सिन सिलिकेट बनता है।

Note – सिलिकेटो के और भी वर्ग हैं एवं उनकी संरचनाएं भी अलग-अलग हैं। यह परीक्षाओं में बहुत कमी से पूछे जाते हैं। इसलिए जितने का उपरोक्त वर्णन किया गया है उन्हें ध्यान से पढ़ें और समझें यह टॉपिक थोड़ा कठिन है इसके समझने में कुछ परेशानी हो सकती है


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *