चौपाई छंद की परिभाषा और उदाहरण सहित | chaupai chhand in Hindi

छंद कविता की स्वाभाविक गति के नियम-बद्ध रूप हैं। सामान्य धारणा के अनुसार जातीय संगीत और भाषावृत्ति के आधार पर निर्मित लयादर्श की आवृत्ति को छंद कहा जाता है। चौपाई छंद एक मात्रिक छंद है। आइये इसके बारे में जानते हैं।

चौपाई छंद

चौपाई (chaupai in Hindi) एक सममात्रिक छंद है। इसमें चार चरण होते हैं। और इसके प्रत्येक चरण में 16 मात्राएं होती हैं। चरण के अंत में जगण (।ऽ।) और तगण (ऽऽ।) का प्रयोग नहीं होना चाहिए।

चौपाई छंद की परिभाषा और उदाहरण
चौपाई छंद की परिभाषा और उदाहरण

यह चौपाई की परिभाषा chhand ki paribhasha सबसे सरल और आसान है एवं इसके उदाहरण में मात्रा लगाकर भी दिखानी चाहिए।

Notes – जगण और तगण क्या हैं यह वर्णिक छंद के प्रकार हैं। इनके बारे में छंद में विस्तार से समझाया गया है वहां से पढ़ें। चौपाई छंद के अंत में दीर्घ वर्ण का होना अच्छा माना जाता है।

चौपाई के उदाहरण

    ऽ।।   ।।   ।।  ।।।   । ऽ ऽ  = 16 मात्राएं
  1. बंदउँ गुरु पद पदुम परागा।
    । । ।  ।  ऽ ।   । । ।  । । ऽ ऽ  = 16 मात्राएं
    सुरुचि सुबास सरस अनुरागा॥
    ।  ।  ।  ऽ । ।।  ऽ।।  ऽ ऽ  = 16 मात्राएं
    अमिय मूरिमय चूरन चारू।
    । । ।  । । ।   । ।  ।।   । । ऽ ऽ  = 16 मात्राएं
    समन सकल भव रुज परिवारू॥

इस उदाहरण में चार चरण हैं और प्रत्येक चरण में 16 मात्राएं हैं। तथा चरण के अंत में जगण और तगण का प्रयोग निषेध है। अतः यह चौपाई छंद है।

पढ़ें… कुण्डलिया छंद की परिभाषा और उदाहरण | Kundaliya chhand ki paribhasha
पढ़ें… सोरठा छंद क्या है, परिभाषा और उदाहरण मात्रा सहित समझाइए
पढ़ें… रोला छंद की परिभाषा और उदाहरण | rola chhand ki paribhasha
पढ़ें… दोहा छंद की परिभाषा और उदाहरण | Doha chhand ki paribhasha udaharan sahit

    । । ।    ऽ  ।   ऽ । ।   । । ऽ ऽ = 16 मात्राएं
  1. निरखि सिद्ध साधक अनुरागे।
    । । ।  । ऽ ।  । ऽ । ।  ऽ ऽ = 16 मात्राएं
    सहज सनेहु सराहन लागे।।
    ऽ ।  ।  ऽ । ।  ऽ ।  । । ।  ऽ = 16 मात्राएं
    होत न भूतल भाउ भरत को।
    । । ।  । । । । ।  । । । । । । ऽ = 16 मात्राएं
    अचर सचर चर अचर करत को।।

इस उदाहरण में चार चरण हैं और प्रत्येक चरण में 16 मात्राएं हैं। एवं चरण के अंत में जगण और तगण का प्रयोग नहीं हुआ है। अतः यह भी चौपाई छंद का उदाहरण है।

    । ।  । ।  । ऽ  । ऽ  । ।  ऽ ऽ  = 16 मात्राएं
  1. बिनु पग चले सुने बिनु काना।
    कर बिनु कर्म करे विधि नाना॥
    तनु बिन परस नयन बिनु देखा।
    गहे घ्राण बिनु वास असेखा॥

यहां चौपाई के उदाहरण मात्रा सहित दिए गए हैं। ताकि आपको आसानी से समझाया जा सके।

Note – तुलसी और जायसी चौपाई छंद के प्रमुख कवि हैं। कबीर की रमैनियॉं भी चौपाई छंद में हैं।

पढ़ें… छंद – परिभाषा, उदाहरण, भेद और प्रकार, Chhand kise kahate hain PDF

चौपाई छंद संबंधित प्रश्न उत्तर

Q.1 चौपाई की परिभाषा क्या होती है?

Ans. चौपाई एक सममात्रिक छंद है। इसमें चार चरण होते हैं। और इसके प्रत्येक चरण में 16 मात्राएं होती हैं।

Q.2 चौपाई के प्रत्येक चरण में कितनी कितनी मात्राएं होती हैं?

Ans. चौपाई के प्रत्येक चरण में 16 मात्राएं होती हैं।

Q.3 चौपाई का उदाहरण क्या होगा?

Ans. बंदउँ गुरु पद पदुम परागा।
सुरुचि सुबास सरस अनुरागा॥
अमिय मूरिमय चूरन चारू।
समन सकल भव रुज परिवारू॥


शेयर करें…

Gulam Waris

हेलो छात्रों, मेरा नाम गुलाम वारिस है। मैं मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश से हूं। 2022 में मैंने B.A. की शिक्षा को पूरा किया। और इसके बाद अब में B.ed. कर रहा हूं। हिन्दी, सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स पर मुझे अच्छी समझ है। मुझे लिखना और पढ़ाना बहुत पसंद है। इसलिए ही मैं ऑनलाइन studynagar.com वेबसाइट की मदद से आप सभी छात्रों तक अपने ज्ञान को सरल और आसान भाषा में प्रस्तुत कराने के लिए तैयार हूं। धन्यवाद

View all posts by Gulam Waris →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *