उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं परिभाषा, उदाहरण सहित, भेद

काव्य की शोभा बढ़ाने वाले धर्मों को अलंकार कहते हैं। अलंकार मुख्य दो प्रकार के होते हैं। जहां शब्दों के कारण चमत्कार आ जाता है वहां शब्दालंकार होता है। एवं जहां अर्थ के कारण रमणीयता आ जाती है। वहां अर्थालंकार होता है।
उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं परिभाषा उदाहरण सहित भेद का वर्णन कीजिए। आइये इसका अध्ययन करते हैं।

उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं परिभाषा
उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं परिभाषा

उत्प्रेक्षा अलंकार

जहां उपमेय में उपमान की सम्भावना की जाए, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार (utpreksha alankar in Hindi) होता है। मनु-मानो, जनु-जानो आदि उत्प्रेक्षा अलंकार के वाचक शब्द हैं।

उत्प्रेक्षा अलंकार के उदाहरण

  1. सोहत ओढ़ै पीतु-पटु, श्याम सलोने गात।
    मनौ नीलमनि सैल पर, आपतु परयौ प्रभात॥

स्पष्टीकरण – यहां श्याम सलोने गात में नीलमनि सैल की तथा पीतु-पटु में आतपु की संभावना की गयी है। और मनौ शब्द का भी प्रयोग है। अतः यह उत्प्रेक्षा अलंकार है।

  1. मोर मुकुट की चन्द्रिकनु, यौं राजत नँद-नन्द।
    मनु ससि सेखर की अकस, किये सेखर सत-चन्द॥

स्पष्टीकरण – यहाँ मोर पंख से बने मुकुट की चन्द्रिकाओं (उपमेय) में शत-चन्द्र (उपमान) की सम्भावना व्यक्त की गयी है। और मनोज शब्द का भी प्रयोग है। अतः यह उत्प्रेक्षा अलंकार है।

पढ़ें… अनुप्रास अलंकार की परिभाषा, उदाहरण, भेद | anupras alankar in Hindi
पढ़ें… रूपक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, भेद क्या है | rupak alankar in Hindi
पढ़ें… उपमा अलंकार किसे कहते हैं परिभाषा, उदाहरण, अंग | upma alankar
पढ़ें… श्लेष अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, भेद और अर्थ क्या है
पढ़ें… यमक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण सहित, अर्थ | yamak alankar ki paribhasha

  1. लता भवन तें प्रगट भे तेहि अवसर दोउ भाइ।
    निकसे जन-जुग बिमल बिधु जलद पटल बिलगाइ॥ च
  1. चमचमात चंचल नयन बिच घूँघट-पट झीन।
    मानहु सुरसरिता बिमल जल उछरत जुग मीन॥

उत्प्रेक्षा अलंकार के भेद

उत्प्रेक्षा अलंकार के तीन भेद होते हैं।

1. वस्तूत्प्रेक्षा – जहां किसी एक वस्तु में दूसरी वस्तु की संभावना की जाती है वहां वस्तूत्प्रेक्षा होती है। जैसे –
“उसका मुख मानो चंद्रमा है।”

2. हेतूत्प्रेक्षा – जब किसी कथन में अवास्तविक कारण को कारण मान लिया जाए अथवा जो कारण न हो उसमें हेतु की संभावना की जाए, वहां हेतूत्प्रेक्षा होती है।

3. फलोत्प्रेक्षा – जहां अवास्तविक फल को वास्तविक फल मान लिया जाए अथवा अफल में फल की संभावना की जाए वहां फलोत्प्रेक्षा होती है।

पढ़ें… अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, भेद, प्रकार, alankar in Hindi PDF

उत्प्रेक्षा अलंकार संबंधी प्रश्न उत्तर

Q.1 उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा क्या है ?

Ans. जहां उपमेय में उपमान की सम्भावना की जाए, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होता है।

Q.2 उत्प्रेक्षा अलंकार का उदाहरण कौन सा है?

Ans. सोहत ओढ़ै पीतु-पटु, श्याम सलोने गात।
मनौ नीलमनि सैल पर, आपतु परयौ प्रभात॥

Q.3 उत्प्रेक्षा अलंकार के कितने भेद होते हैं?

Ans. उत्प्रेक्षा अलंकार के तीन भेद होते हैं।


शेयर करें…

Gulam Waris

हेलो छात्रों, मेरा नाम गुलाम वारिस है। मैं मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश से हूं। 2022 में मैंने B.A. की शिक्षा को पूरा किया। और इसके बाद अब में B.ed. कर रहा हूं। हिन्दी, सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स पर मुझे अच्छी समझ है। मुझे लिखना और पढ़ाना बहुत पसंद है। इसलिए ही मैं ऑनलाइन studynagar.com वेबसाइट की मदद से आप सभी छात्रों तक अपने ज्ञान को सरल और आसान भाषा में प्रस्तुत कराने के लिए तैयार हूं। धन्यवाद

View all posts by Gulam Waris →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *