तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धांत एवं प्रक्रम | Chemistry class 12 Chapter 6 notes in Hindi

प्रस्तुत अध्याय के अंतर्गत हम खनिज तथा अयस्क के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। इसमें हम अयस्क के सांद्रण की विधियां, इनका शोधन, निस्तापन तथा भर्जन और विभिन्न तत्वों के निष्कर्षण एवं उनके उपयोग के बारे में अध्ययन करेंगे।

तत्वों के निष्कर्षण के सिद्धांत एवं प्रक्रम

  • आयोडीन समुद्री खरपतवार में, वैनेडियम समुद्री वनस्पतियों में पाया जाता है।
  • भूपर्पटी में ऑक्सीजन की मात्रा सर्वाधिक लगभग 49.5% पायी जाती है।
  • हेमेटाइट मैग्नेटाइट तथा सिडेराइट यह सभी आयरन के अयस्क हैं।
  • बॉक्साइट, एलुमिनियम का अयस्क है।
  • झाग प्लवन विधि द्वारा सल्फाइड अयस्क का सांद्रण किया जाता है।
  • काॅपर का मैलेकाइट CuCO3•Cu(OH)2 कार्बोनेट अयस्क है।
  • धातुओं का निष्कर्षण निस्तापन, भर्जन, प्रगलन, सिंटरन आदि विधियों द्वारा किया जाता है।
  • प्रगलन की क्रिया सामान्यतः वात्या भट्टी में कराई जाती है।

गालक

वे पदार्थ जो अयस्क में उपस्थित अलगनीय अशुद्धियों से संयोग करके गलनीय धातुमल बनाते हैं। उन्हें गालक (flux in Hindi) कहते हैं।
गालक दो प्रकार के होते हैं।
(1) अम्लीय गालक
(2) क्षारीय गालक

1. अम्लीय गालक

जब किसी अयस्क में अशुद्धियां क्षारीय प्रकृति की होती हैं तो इन अशुद्धियों को दूर करने के लिए प्रयुक्त गालक को अम्लीय गालक (acidic flux in Hindi) कहते हैं। जैसे –
\footnotesize \begin{array}{rcl} CaO \\ क्षारीय\,अशुद्धि \end{array} + \footnotesize \begin{array}{rcl} SiO_2 \\ अम्लीय\,गालक \end{array} \longrightarrow \footnotesize \begin{array}{rcl} CaSiO_3 \\ धातुमल \end{array}

2. क्षारीय गालक

जब किसी अयस्क में अशुद्धियां अम्लीय प्रकृति की होती हैं तो इन अशुद्धियों को दूर करने के लिए प्रयुक्त गालक को क्षारीय गालक (basic flux in Hindi) कहते हैं। जैसे –
\footnotesize \begin{array}{rcl} SiO_2 \\ अम्लीय\,अशुद्धि \end{array} + \footnotesize \begin{array}{rcl} CaCO_3 \\ क्षारीय\,गालक \end{array} \longrightarrow \footnotesize \begin{array}{rcl} CaSiO_3 \\ धातुमल \end{array} + CO2

Chemistry class 12 Chapter 6 notes in Hindi

रसायन विज्ञान कक्षा 12 के अध्याय 6 में अनेकों महत्वपूर्ण टॉपिक हैं। जिनको हमने एक-एक करके अलग-अलग लेखों में तैयार किया गया है। जिनका सीधा लिंक इस अध्याय के आखिर में दिया गया है सभी अध्याय को जरूर पढ़ें।

अयस्क किसे कहते हैं, उदाहरण, प्रकार, सल्फाइड, कार्बोनेट, क्लोराइड अयस्क क्या है
अयस्क का सांद्रण, चुंबकीय पृथक्करण, फेन या झाग प्लवन विधि क्या है, किसे कहते हैं
भर्जन तथा निस्तापन क्या है उदाहरण और अंतर किसे कहते हैं
वात्या भट्टी क्या है, आयरन के निष्कर्षण में प्रयुक्त, लोहा गलाने की भट्टी, चित्र
लोहे का निष्कर्षण कैसे होता है, उपयोग लौह अयस्क क्या है, आयरन
कॉपर का निष्कर्षण कैसे किया जाता है pdf, अयस्क, उपयोग
बॉक्साइट अयस्क से एल्युमिनियम का निष्कर्षण, शुद्ध एलुमिना, उपयोग
जिंक ब्लैंडी से जिंक का निष्कर्षण, जस्ता, उपयोग
धातुओं का शोधन, आसवन, विद्युत अपघटनी परिष्करण, वाॅन आर्कल, वाष्प प्रावस्था, मंडल विधि


शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *