हैलोएल्केन तथा हैलोएरीन नोट्स | Chemistry class 12 chapter 10 notes in Hindi

यह पाठ 12 वीं रसायन का 2nd book का प्रथम अध्याय है। इस अध्याय में महत्वपूर्ण बिंदु तथा अभिक्रियाएं, परिभाषाएं आदि का समावेश किया गया है इस पाठ में जितने भी बड़े-बड़े टॉपिक हैं। उन पर अलग से स्पेशल आसान शब्दों में लेख तैयार किए गए हैं। जिनका सीधा लिंक इस लेख के आखिर में दिया गया है।

हाइड्रोकार्बन में उपस्थित एक हाइड्रोजन परमाणु को एक हैलोजन (X = Cl, F, Br, I) द्वारा प्रतिस्थापित करने पर प्राप्त यौगिक को हैलोएल्केन कहते हैं।
\scriptsize \begin{array}{rcl} RH \\ हाइड्रोकार्बन \end{array} \xrightarrow [-H] {+X} \scriptsize \begin{array}{rcl} RX \\ हैलोएल्केन \end{array}

Note – 2nd book के शुरू के तीन पाठों में अभिक्रियाएं तथा आईयूपीएसी नाम एवं उनकी संरचना ही है। और इन पाठों से यही एग्जाम में पूछा जाता है। इसलिए आप सभी को आईयूपीएसी नाम बनाने आने चाहिए एवं उनके नाम से संरचनाएं भी बनानी आनी चाहिए।
क्या होता है जब कैसे प्राप्त करोगे। इस तरह से अभिक्रियाएं आती हैं जिस पर हमने एक स्पेशल लेख तैयार किया है उसको आप जरूर पढ़ें।

पढ़ें… रसायन विज्ञान की अभिक्रियाएं, सैण्डमेयर, वुर्ट्ज, गाटरमान, कार्बिलएमीन

1. 2–क्लोरो–3–मेथिलपेन्टेन की संरचना लिखिए?

हैलोएल्केन तथा हैलोएरीन नोट्स

कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

  • हैलोएल्केन में हैलोजन प्राथमिक कार्बन परमाणु से जुड़ा होता है तो उसे प्राथमिक एल्किल हैलाइड अथवा 1° एल्किल हैलाइड कहते हैं।
  • DDT का पूरा नाम डाईक्लोरोडाईफेनिल ट्राईक्लोरोएथेन होता है।
  • फ्रेऑन का उपयोग रेफ्रिजरेटर, वातानुकूलन में प्रशीतक के रूप में किया जाता है।
  • कार्बन टेट्राक्लोराइड का उपयोग आयोडाइड तथा ब्रोमाइड के क्लोरीन जल परीक्षण में विलायक के रुप में किया जाता है।
  • हैलोएल्केन जल में लगभग अविलेय है क्योंकि यह जल के अणुओं के साथ हाइड्रोजन बंध नहीं बनाते हैं और न ही जल के अणुओं में विद्यमान हाइड्रोजन बंध पर तोड़ पाते हैं।
  • क्लोरोफॉर्म रंगहीन, भारी द्रव है इसका क्वथनांक 61°C होता है।

उभयदंती नाभिकरागी

ऐसे नाभिकरागी जो विभिन्न स्थानों से अभिक्रिया कर सकते हैं उन्हें उभयदंती नाभिकरागी कहते हैं।
उदाहरण – साइनाइड आयन उभयदंती नाभिकरागी का उदाहरण है।
चूंकि यह कार्बन की तरफ से अभिक्रिया करके सायनाइड बनाता है तथा नाइट्रोजन की तरफ से अभिक्रिया करके आइसोसायनाइड बनाता है। अर्थात् यह दोनों स्थानों से अभिक्रिया कर सकता है।

उभयदंती नाभिकरागी
उभयदंती नाभिकरागी
Chemistry class 12 chapter 10 notes in Hindi
  1. हैलोएल्केन क्या है, बनाने की विधियां, गुण, उपयोग | haloalkanes in Hindi
  2. हैलोएरीन किसे कहते है बनाने की विधि, भौतिक व रासायनिक गुण, उपयोग, अभिक्रियाएं
  3. पाॅलीहैलोजन यौगिक, फ्रेऑन, DDT तथा मेथिलीन क्लोराइड पर टिप्पणी लिखिए
  4. क्लोरोफॉर्म क्या है, उपयोग, सूत्र, भौतिक व रासायनिक गुण, बनाने की विधि
  5. आयोडोफाॅर्म क्या है, बनाने की विधि, सूत्र, उपयोग, परीक्षण तथा रासायनिक अभिक्रिया लिखिए
  6. कार्बन टेट्राक्लोराइड क्या है, उपयोग, फार्मूला, बनाने की विधि, भौतिक व रासायनिक गुण

शेयर करें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *